कहावत लोकोक्ति मुहावरे-आ

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
गणराज्य कला पर्यटन दर्शन इतिहास धर्म साहित्य सम्पादकीय सभी विषय ▼

वर्णमाला क्रमानुसार पन्ने की खोज कर सकते हैं

अं
क्ष त्र ज्ञ श्र
कहावत लोकोक्ति मुहावरे अर्थ

1-आसमान से गिरा खजूर में अटका।

अर्थ - एक मुसीबत से निकलकर दूसरी मुसीबत में फंस जाना।

2- आसाढ़ी पूनो दिना, गाज बीजु बरसंत।

नासे लच्छन काल का, आनंद मानो सत।।

अर्थ - आषाढ़ की पूर्णिमा को यदि बादल गरजें, बिजली चमके और पानी बरसे तो वह वर्ष बहुत सुख से बीतेगा।

3- आद्रा में जौ बोवै साठी।

दु:खै मारि निकारै लाठी।।

अर्थ - जो किसान आद्रा नक्षत्र में धान बोता है वह दु:ख को लाठी मारकर भगा देता है।

4- आद्रा बरसे पुनर्वसुजाय, दीन अन्न कोऊ न खाय।।

अर्थ - यदि आर्द्रा नक्षत्र में वर्षा हो और पुनर्वसु नक्षत्र में पानी न बरसे तो ऐसी फ़सल होगी कि कोई दिया हुआ अन्न नहीं खाएगा।

5- आस-पास रबी बीच में खरीफ।

नोन-मिर्च डाल के, खा गया हरीफ।।

अर्थ - खरीफ की फ़सल के बीच में रबी की फ़सल अच्छी नहीं होती है।

6- आँख के अंधे नाम नैनसुख

अर्थ - नाम बड़ा होना और व्यक्ति का व्यवहार और गुण उसके विपरीत होना।

7- आटे के साथ घुन भी पिसता है।

अर्थ - दोषी व्यक्ति के साथ निर्दोष व्यक्ति भी मारा जाता है।

8- आदमी–आदमी अंतर, कोई हीरा कोई कंकर।

अर्थ - हर आदमी का गुण और स्वाभाव दूसरे से भिन्न होता है्।

9- आम के आम गुठलियों के दाम

अर्थ - दोहरा लाभ होना।

10- आँख एक नहीं, कजरौटा दस-दस।

अर्थ - व्यर्थ का आडम्बर रचना।

11- आँख ओट पहाड़ ओट।

अर्थ - आँख से ओझल होने पर समझना चाहिए कि बहुत दूर हो गए।

12- आँख और कान में चार अंगुल का फ़र्क़।

अर्थ - आँखों देखी बात का विश्वास करना, कानों से सुनी बात का नहीं।

13- आँख के आगे नाक, सूझे क्या खाक।

अर्थ - आँख के आगे परदा पड़ा है तो क्या रास्ता सूझेगा।

14- आँख बची और माल दोस्तों का।

अर्थ - पलक झपकने से माल गायब हो सकता है।

15- आँख सुख कलेजे ठंडक।

अर्थ - परम शान्ति का होना।

16- आँख एक नहीं कलेजा टूक-टूक।

अर्थ - बनावटी दु:ख प्रकट करना।

17- आई तो ईद, न आई तो जुम्मेरात,

आई तो रोज़ी नहीं तो राज़ा।

अर्थ - आमदनी हुई तो मौज ही मौज, नहीं तो फाका ही सही।

18- आई मौज फ़कीर की, दिया झोपड़ा फूँक।

अर्थ - मनमौजी और विरक्त आदमी को किसी का मोह नहीं होता और ना ही किसी चीज़ की परवाह होती है ।

19- आई है जान के साथ, जाएगी जनाज़े के साथ।

अर्थ - लाइलाज बीमारी।

20- आओ-आओ घर तुम्हारा,

खाना माँगे दुश्मन हमारा।

अर्थ - झूठ-मूठ का सत्कार करना, मन ना होने पर भी आदर देना ।

21- आस्तीन का साँप।

अर्थ - विश्वासघाती मित्र।

22- आग का जला आग ही से अच्छा होता है।

अर्थ - कष्ट देने वाली वस्तु से भी कभी कभी कष्ट का निवारण हो जाता है।

23- आग खाएगा तो अंगार उगलेगा

अर्थ - बुरे काम करने का बुरा फल ही मिलता है।

24- आग बिना धुआँ नहीं।

अर्थ - हर चीज़ का कारण अवश्य ही होता है।

25- आग लगने पर कुआं खोदना।

अर्थ - आवश्यकता पड़ने पर काम करना, पहले से कुछ न करना।

26- आगे जाए घुटने टूट, पीछे देखे आँख फूटे।

अर्थ - जिधर जाएँ उधर ही मुसीबत आना।

27- आगे नाथ न पीछे पगहा।

अर्थ - किसी का भी बंधन ना होना, पूर्णत: बंधनरहित होना।

28- आज का बनिया कल का सेठ।

अर्थ - काम करते रहने से ही आदमी बड़ा हो जाता है अर्थात उन्नति करता है।

29- आज मेरी मँगनी, कल मेरा ब्याह,

टूट गई टंगड़ी, रह गया ब्याह।

अर्थ - उम्मीदें कभी कभी विफल भी हो जाती हैं।

30- आटे का चिराग, घर रखूँ तो चूहा खाए,

बाहर रखूँ तो कौआ ले जाए।

अर्थ - ऐसी वस्तु जिसे बचाने में कठिनाई हो, जिसकी रक्षा करना मुश्किल हो जाए ।

31- आठ कनौजिया नौ चूल्हे।

अर्थ - अलगाव की स्थिति होना।

32- आठ वार नौ त्योहार।

अर्थ - मौज मस्ती से भरा जीवन जीना।

33- आदमी की दवा आदमी है।

अर्थ - मनुष्य ही मनुष्य के काम आता है या मनुष्य ही मनुष्य की सहायता करते हैं।

34- आदमी को ढाई गज़ कफ़न काफ़ी है।

अर्थ - आदमी बेकार की सुख-सुविधा जुटाने में लगा रहता है, जीवन के लिए ज़रूरी ज़रूरतें तो कम ही होती हैं।

35- आदमी जाने बसे, सोना जाने कसे।

अर्थ - व्यक्ति व्यवहार से और सोना कसौटी पर कसने से पहचाना जाता है।

36- आदमी पानी का बुलबुला है।

अर्थ - मनुष्य का जीवन नाशवान है, इसीलिए यह जीवन अनमोल है।

37- आधा तीतर आधी बटेर।

अर्थ - बेमेल चीज़ों का सम्मिश्रण होना।

38- आधी छोड़ पूरी को धावे, आधी रहे ना पूरी पावे।

अर्थ - अधिक लालच करने से हानि ही होती है।

39- आप काज़ महा काज़।

अर्थ - अपना काम स्वयं करना ही अच्छा होता है।

40- आप न जावे सासुरे औरों को देय सीख।

अर्थ - स्वयं तो काम करते नहीं और दूसरों को सीख देते हैं।

41- आप पड़ोसन लड़े।

अर्थ - बिना बात ही झगड़ा करना।

42- आप भला तो जग भला।

अर्थ - भले आदमी को सब लोग भले ही मिलते हैं।

43- आप मरे जग परलय।

अर्थ - अपने मरने के बाद दुनिया में कुछ भी होता रहे।

44- आप मरे बिन स्वर्ग न जावे।

अर्थ - अपना काम स्वयं किए बिना ठीक नहीं होता।

45- आप मियाँ जी माँगते, द्वार खड़े दरवेश।

अर्थ - अपने पास कुछ भी नहीं है दूसरों की सहायता क्या करेगें।

46- आपा तजे तो हरि को भजे।

अर्थ - स्वार्थ को छोड़ने से ही परमार्थ प्राप्त होता है।

47- आब–आब कर मर गया, सिरहाने रखा पानी।

अर्थ - वस्तु के पास होने पर भी सही भाषा ना जानने से समस्या आती है।

48- आ बला गले लग, आ बैल मुझे मार।

अर्थ - बिना बात मुसीबत मोल लेना।

49- आम खाने से काम, पेड गिनने से क्या काम।

अर्थ - अपने मतलब की बात करना।

50- आए की खुशी न गए का गम।

अर्थ - हर हालात में एक जैसा ही रहना।

51- आए थे हरि भजन को ओटन लगे कपास।

अर्थ - उच्च लक्ष्य लेकर चलना पर कोई घटिया सा काम करने लगना।

52- आस-पास बरसे दिल्ली पड़ी तरसे।

अर्थ - जिसे आवश्यकता हो उसे न मिलकर किसी और को मिलना।

53- आसमान का थूका मुँह पर आता है।

अर्थ - बड़े लोगों की निंदा करने से अपनी ही बदनामी होती है।

54- आसमान से गिरा खजूर पर अटका।

अर्थ - कोई काम पूरा होते-होते रह गया, एक मुसीबत से निकले तो दूसरी मुसीबत में फंस जाना।

55- आकाश कुसुम।

अर्थ - अनहोनी बात।

56- आकाश चूमना।

अर्थ - बुलन्द होना।

57- आकाश से बातें करना।

अर्थ - बहुत ऊँचा होना।

58- आकाश पाताल एक करना।

अर्थ - कोई उपाय न छोड़ना।

59- आग पर तेल छिड़कना।

अर्थ - और भड़काना।

60- आग पर पानी डालना।

अर्थ - झगड़ा मिटाना।

61- आग पानी या आग और फूल का बैर होना।

अर्थ - स्वाभाविक शत्रुता होना।

62- आग बबूला होना।

अर्थ - बहुत गुस्सा होना।

63- आग में कूदना।

अर्थ - जान जोखिम में डालना।

64- आग लगने पर कुआँ खोदना।

अर्थ - पहले से कोई उपाय न कर रखना।

65- आग लगाकर तमाशा देखना।

अर्थ - झगड़ा पैदा करके खुश होना।

86- आसमान सिर पर उठाना।

अर्थ - बहुत हो-हल्ला मचाना।

67- आगे का पैर पीछे पड़ना।

अर्थ - क़िस्मत उलटी होना।

68- आटा गीला होना।

अर्थ - विपत्ति में पड़ना।

69- आसमान फट पड़ना।

अर्थ - अचानक आफ़त आ पड़ना।

70- आटे दाल का भाव मालूम होना।

अर्थ - दुनियादारी ज्ञात होना।

71- आठ-आठ आँसू रोना।

अर्थ - बहुत पछतावा होना।

72- आड़े आना।

अर्थ - मुसीबत में सहायता करना।

73- आड़े हाथों लेना।

अर्थ - बातों से लज्जित कर देना।

74- आधा तीतर आधा बटेर।

अर्थ - बेमेल काम।

75- आपे से बाहर होना।

अर्थ - क्रोध से अपने वश में न रहना।

76- आ बनना।

अर्थ - मुसीबत पड़ना।

77- आव न देखा ताव।

अर्थ - बिना कारण।

78- आवाज़ उठाना।

अर्थ - विरोध प्रकट करना।

79- आसन डोलना।

अर्थ - विचलित होना।

80- आसमान के तारे तोड़ना।

अर्थ - असंभव कार्य करना।

81- आसमान टूट पड़ना।

अर्थ - अचानक विपत्ति आ पड़ना।

82- आसमान पर चढ़ा देना।

अर्थ - बहुत तारीफ करना।

83- आसमान पर दिमाग होना।

अर्थ - बहुत घंमडी होना।

-

फ़ेसबुक पर भारतकोश (नई शुरुआत)
प्रमुख विषय सूची
फ़ेसबुक पर शेयर करें


गणराज्य कला पर्यटन जीवनी दर्शन संस्कृति प्रांगण ब्लॉग सुझाव दें
इतिहास भाषा साहित्य विज्ञान कोश धर्म भूगोल सम्पादकीय


Book-icon.png संदर्भ ग्रंथ सूची
ऊपर जायें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

अं
क्ष त्र ज्ञ श्र अः



निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
संक्षिप्त सूचियाँ
सहायता
सहायक उपकरण